Basic Computer System Organization in Hindi

Monday, 19 July 2021 (6 months ago)
Rate this post

Basic Computer Organization in Hindi – नमस्कार पाठकों स्वागत है आपका इस ब्लॉग में, तो कैसे है आप आशा करते है सही होंगे और कुछ अच्छा ही करते होंगे, प्रिय पाठको आज के इस पृष्ठ में हम आपको Computer System Organisation In Hindi के बारे में जानकारी साझा करेंगे, हम उम्मीद करते है यह हमारे द्वारा बताई जाने वाली महत्वपूर्ण जानकारी आपके लिए काफी उपयोगी रहेगी, यदि आप भी इसकी सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते है तब आपसे निवेदन है की आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़े,

कंप्यूटर जिसे हम हिंदी में संगणक भी कहते सकते है, हम जानते है की जब से कंप्यूटर बना है तब से लेकर उसमे कई तरफ के बदलाब होते रहते है जैसे : Size, Performance, Reliability आदि, लेकिन वॉन न्यूमैन (Von Neumann) द्वारा मूल तर्क संरचना अवधारणा के आधार पर को नहीं बदला गया है। Computer लैटिन भाषा के शब्द Computare” से बना हुआ है जिसका मतलब होता है गणना करना,  सभी Computer Raw input Data को Useful Information में बदलने के लिए पाँच Function पे Perform करते है,

Basic Computer System Organization in Hindi

Basic Computer System Organization in Hindi

कंप्यूटर ऑल डिटेक्टर इन हिंदी का मतलब होता है उसके संरचना और उसका बनावट किस तरह का है, यहाँ हम आपको Image Of Computer System Organisation आदि के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे, हम जानते है की कंप्‍यूटर (Computer) को पीढी के अनुसार, कार्य के अनुसार और आकार के अनुसार कई भागों में बांटा गया है, जिसमें Central Processing Unit, Input Unit Memory और Output Unit का जो काम होता है, यह Computer के Basic Organization है, जिन्हे हम नीचे की और विस्तार से बताने जा रहे है |

Inputting Computer System को निर्देश देने और Data दर्ज करने की प्रक्रिया Inputting कहलाती है।

Storing Data और Instruction (निर्देश ) को Store करना ताकि ताकि जरुरत पड़ने पे उपलब्ध कराया जा सके।

Outputting उपभोक्ता के लिए उपयोगी जानकारी या परिणाम बनाने की प्रक्रिया, जैसे कि एक printed report या visual display करना आदि का कार्य Outputting कहलाती है।

Processing: उपयोगी जानकारी में परिवर्तित करने के लिए डेटा पर Arithmetic Operations, Mathematics Operation, Multiply, Divide, Comparison आदि की तुलना करना सब Processing कहलाती है।

Controlling – Inputting, Storing, Processing, Outputting, Controlling उन सभी कार्यो को करने के लिए Manner और Sequence को निर्देशित करना आदि को हम Controlling कह सकते है |

इसके बाद डाटा को आउटपुट के रूप में यूजर को दिखा देता है. ये दो तरह के डाटा को स्वीकार कर के प्रोसेस करता है, एक तो होता है Arithmetical और दूसरा Logical.

ऊपर दिखाए गए प्रोसेस फ्लो डायग्राम से आप आसानी से समझ सकते हैं की कंप्यूटर के काम करने का तरीका क्या है,

Main Components of Basic Computer System Organization

कंप्यूटर आर्गेनाइजेशन महत्वपूर्ण निर्देशांक कुछ इस प्रकार से है :-

  1. Input Unit
  2. Output Unit
  3. Storage Unit
  4. Arithmetic Logic Unit
  5. Control Unit
  6. Central Processing Unit

Input Unit

इनपुट यूनिट एक हार्डवेयर डिवाइस है, जो कंप्यूटर का एक महवत्पूर्ण पार्ट है जिसके जरिए कंप्यूटर को Data भेजा जाता है, एक इनपुट डिवाइस कंप्यूटर पर डेटा भेजने के लिए उपयोग किया जाने वाला हार्डवेयर या बाह्य उपकरण है | जब किसी भी प्रकार का डाटा कंप्यूटर में इंटर किया जाता है मतलब की जब computer को इनपुट दिया जाता है, इनपुट उपकरणों का प्रयोग कंप्यूटर में आँकड़ें डालने के लिए किया जाता है । इनपुट डिवाइस एक उपकरण है जो कंप्यूटर को इनपुट प्रदान करता है । की-बोर्ड सबसे अधिक प्रचलित इनपुट उपकरणों में से एक है जिसका प्रयोग कंप्यूटर में आंकड़े डालने और निर्देश देने के लिए किया जाता है ।

यदि सरल शब्दों के कहे तो इनपुट यूनिट एक peripheral device होता है जो की computer में data को enter करने या feed करने में उपयोग होता है| इनपुट डिवाइस यूजर को computer से communicate (बातचीत) करने में help करता है| दुसरे शब्दों में कहें तो वैसा device जो computer को instruction देने के लिए use होता है उसे input device कहा जाता है |

Output Unit

Data को दर्ज करने के बाद उसपे Perform Process करना उसको Convert करेगा, आउटपुट डिवाइस वो डिवाइस होती है जो कंप्यूटर के इनपुट डिवाइस द्वारा  दिए गये निर्देशों को प्रोसेसिंग होने के बाद जिस डिवाइस में उसका परिणाम हार्डकापी के रूप में (प्रिंटर) या सॉफ्ट कॉपी (मॉनिटर) दीखता अर्थात प्रदान करता है वह आउटपुट डिवाइस कहलाता है।  कंप्यूटर में विभिन्न प्रकार के आउटपुट डिवाइसेस है।

Storage Unit

यह एक ऐसा हार्डवेयर है जो  डाटा को स्थायी व् अस्थायी रूप से स्टोर करने के काम में आता है| storage unit को बहुत से नामों से भी जाना जाता है जैसे की Digital Storage, Storage Media और Storage Medium आदि, इसका इस्तेमाल डाटा को Digitally रूप से स्टोर करके रखते हैं, ये डाटा permanently या फिर temporary हो सकते है। जब भी हमें इसमे save किये हुए डाटा की जरूरत पड़ती है तो इस storage device की मदद से हम कभी एक्सेस कर सकते हैं। यह किसी डाटा या इन्फॉर्मेशन को स्थायी (permanently) और अस्थायी (temporary) दोनों रूप से रखने का काम करता हैं

Storage Units दो प्रकार की होती है।

Primary Storage : Primary Storage डिवाइस अस्थायी (temporary) रूप से डाटा रखने के लिये उपयोग किया जाता है. यह size में काफी छोटे होते है, यह ज़्यादातर छोटे रूप में होते हैं। इनकी काम करने की क्षमता काफी तेज़ होती है। इनमे डाटा को चलाने की गति भी तेज़ होती है जैसे की रैम और कैचे मेमोरी, इनमे RAM व Cache Memory शामिल है. इसको कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी (Main Memory) भी कहते है। यह मेमोरी निर्देशों, ऑपरेटिंग सिस्टम और डेटा को स्टोर करता हैं जो computer को चलाने के लिए आवश्यक होती हैं |

Secondary Storage : सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के पास अधिक से अधिक डाटा स्टोर करने की क्षमता होती हैं तथा साथ ही यह किसी भी डाटा को स्थायी (permanent) रूप से store करके रखती है। यह स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर के अंदर या बाहर की तरफ मौजूद होती है। यह आंतरिक और बाहरी तौर पर डाटा को रखते हैं। उदाहरण हैं – हार्ड डिस्क, ऑप्टिकल डिस्क ड्राइव और यूएसबी स्टोरेज उपकरण।

Arithmetic Logic Unit

Arithmetic Logic Unit या अंकगणित तर्क इकाई (ALU) एक डिजिटल सर्किट है जिसका उपयोग अंकगणित और तर्क संचालन करने के लिए किया जाता है, Arithmetic Logic Unit को Computer का Power House भी कहा जाता है। क्यूंकि ALU जितना Power full होगा Computer उतना ही Power full होगा, ALU को गड़नाये करने के लिए बनाया गया था, यह कंप्यूटर के Central Processing Unit  (सीपीयू) का मुलभुत अंग है।

Control Unit

कण्ट्रोल यूनिट जिसे हम हार्डवेयर का एक टुकड़ा कह सकते है, जो बाह्य उपकरणों की गतिविधियों (Computer से जुड़ी अलग-अलग डिवाइस, जैसे Monitor, Hard Drive, Printer, आदि) का प्रबंधन करता है।  इसे नियंत्रण इकाई भ्‍ाी कहते हैं शार्ट में इसे CU भी कहा जाता है, कंट्रोल यूनिट कंप्यूटर की मेमोरी और Peripheral के बीच सूचनाओं के हस्तांतरण को “go-between,” के रूप में कार्य करती है।

Central Processing Unit

Central Processing Unit जिसे हम शार्ट में CPU कहते है, इसे कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है. क्योंकि इसमें प्रोसेसर होता है जो कंप्यूटर से जुड़े दूसरे यंत्रों को नियंत्रित करता है, यह कम्प्यूटर पार्ट्स मदरबोर्ड में लगा रहता है जिसे सीपीयू फैन के नीचे देखा जा सकता है. इसके अन्य पार्ट्स जैसे ALU, Cache Memory, Registers तथा FPU भी इसी के अंदर होती है | यह एक इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोचिप है जो डेटा को इनफॉर्मेशन में बदलते हुए प्रोसेस करता है । इसे कम्प्यूटर का ब्रेन कहा जाता है |

निष्कर्ष 

Dear Readers हम आशा करते है आपको हमारे द्वारा यह बताये गए Basic Computer System Organization in Hindi ? अवश्य पसंद आया होगा, यदि आप यह जानकारी पसंद आई और आप ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी पाना चाहते है तो हमारे इस ब्लॉग से जुड़े रहे, यदि आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना चाहते है तब आप शेयर बटन पर क्लिक करके कर सकते है |

यदि आपका इस लेख से संबंधित कोई सवाल है इसी से संबंधित कोई अन्य जानकारी पाना चाहते है तो हमे कमेंट करके बता सकते है हम जल्द ही आपके इच्छा पूरी करेंगे |

 यह भी देखे :

Download Basic Computer System Organization in Hindi

Rate this post